Net JRF Hindi : कानों में कंगना कहानी का सारांश | Kanon Men Kangana Summary of Story

Net JRF Hindi Unit 7 : कानों में कंगना कहानी का सारांश राजा राधिकारमण प्रसाद सिंह का परिचय (Introduction of Raja Radhikharaman Prasad Singh राजा राधिकारमण प्रसाद सिंह जी का जन्म 10 दिसम्बर 1990 को शाहाबाद, बिहार में हुआ था। उनके पिता का नाम राजा राजराजेश्वरी सिंह था। इनकी मृत्यु 24 मार्च 1971 को हुई थी, इनकी … Read more

Net JRF Hindi : राही कहानी का सारांश व मूल संवेदना | Summary and basic sentiments of Rahi story

Net JRF Hindi Unit 7 : राही कहानी का सारांश व मूल संवेदना कहानी का परिचय (Introduction to the Story) इस कहानी में सुभद्रा जी ने गरीबों के पीड़ा का वर्णन करते हुए उनकी चोरी करने की मजबूरी पर पाठक वर्ग का ध्यान आकर्षित किया है। इस कहानी में उन्होंने सत्याग्रहियों में शामिल सत्ता के लोलुप व्यक्तिंयों … Read more

Net JRF Hindi : दुलाई वाली कहानी के तथ्य व सारांश | Facts and summary of Dulai ‎wali story

Net JRF Hindi Unit 7 :दुलाई वाली कहानी का सारांश दुलाई वाली कहानी के तथ्य व परिचय (Facts and summary of Dulai ‎wali story) दुलाई का अर्थ कपड़े की दो परतों में रुई भरकर सिला हुआ ओढ़ने का मोटा कपड़ा, ओढने की रुईदार चादर, हलकी रजाई लिहाफ़। यह कहानी रेल की घटना पर आधारित है। दुलाई … Read more

Net JRF Hindi : चन्द्रदेव से मेरी बातें कहानी का सारांश | Chandradev se Meree Baten story summary

Net JRF Hindi Unit 7 :  चन्द्रदेव से मेरी बातें कहानी का सारांश चन्द्रदेव से मेरी बातें कहानी का सारांश बंग महिला का परिचय बंग महिला का जन्म 1882 वाराणसी में हुआ। इनका निधन 24 फरवरी 1949 मिर्जापुर (उत्तरप्रदेश) में हुई। उनके पिता का नाम रामप्रसन्न घोष था और माता नीरदवासिनी घोष था। उनके पति का … Read more

Net JRF Hindi :  दुनिया का अनमोल रतन कहानी का सारांश | Duniya Ka Anamol Ratan Kahanee ka Saransh

Net JRF Hindi Unit 7 :  दुनिया का अनमोल रतन कहानी का सारांश प्रेमचंद का साहित्यिक परिचय (Literary introduction of Premchand) नवाबराय अर्थात प्रेमचंद की कहानी दुनिया का सबसे अनमोल रतन है। यह कहानी नवाबराय (प्रेमचंद) की उर्दू में रचति प्रारंभिक दौर की कहानी है। यह कहानी जमाना पत्रिका में 1907 में प्रकाशित हुई है। दयानारायण … Read more

Net JRF Hindi Unit 9 : विवेकी राय का निबन्ध उठ जाग मुसाफिर निबन्ध | Viveki Rai’s Essay Ut Jaag Musafir Essay

Net JRF Hindi Unit 9 : विवेकी राय का निबन्ध उठ जाग मुसाफिर निबन्ध उठ जाग मुसाफिर निबन्ध का परिचय (Introduction to Uth Jaag Musafir Essay) उठ जाग मुसाफिर के लेखक विवेकी राय हैं। इस निबन्ध का संकलन – उठ जाग मुसाफिर में किया गया है, इसमें कुल 10 निबन्ध संकलित है।इसका प्रकाशन 2012 में किया गया … Read more

Net JRF Hindi Unit 9 : आचार्य रामचन्द्र शुकल का निबन्ध कविता क्या है | Essay by Acharya Ramchandra Shukla Kavita Kya Hai

Net JRF Hindi Unit 9 : आचार्य रामचन्द्र शुकल का निबन्ध कविता क्या है कविता क्या है निबन्ध का परिचय (Introduction to Essay Kavita Kya Hai?) “कविता क्या है” सैंधांतिक निबन्ध है। निबन्ध के माध्यम से नई मान्यताओं की स्थापना की गई है। जिस प्रकार प्रेम को परिभाषित नहीं किया जा सकता उसी प्रकार कविता को भी … Read more

Net JRF Hindi Unit 9 : कुबेरनाथ राय का निबन्ध उत्तरा फाल्गुनी के आसपास | Kubernath Roy’s Essay Uttara Phalguni Ke Aasapaas

कुबेरनाथ राय

Net JRF Hindi Unit 9 : कुबेरनाथ राय का निबन्ध उत्तरा फाल्गुनी के आसपास उत्तरा फाल्गुनी के आसपास (Uttara Phalguni Ke Aasapaas) इस निबन्ध के लेखक कुबेरनाथ राय हैं, यह ललित निबन्धकार हैं। 1933 ईसवी उत्तर प्रदेश में इनका जन्म हुआ था। इनका प्रसिद्ध निबन्ध प्रिया नीलकंठी है। उत्तरा फाल्गुनी विषाद योग नामक निबन्ध संग्रह में संकलित … Read more

Net JRF Hindi Unit 9 : अध्यापक पूर्ण सिंह का निबन्ध मजदूरी और प्रेम | Teacher Purna Singh’s Essay on Majadooree aur Prem

Net JRF Hindi Unit 9 : अध्यापक पूर्ण सिंह का निबन्ध मजदूरी और प्रेम निबन्ध मजदूरी और प्रेम मजदूरों के प्रति सम्मान के लिए यह निबन्ध लिखा गया है। किसी मजदूर के श्रम का मूल्य हम उसे पैसे देकर नहीं चुका सकते हैं,  उनकी मजदूरी का मूल्य उन्हें सम्मान देकर चुकाया जा सकता है। सरदार पुर्ण सिंह … Read more

Net JRF Hindi Unit 7 : गैंग्रीन या रोज कहानी के परीक्षा उपयोगी तथ्य | Gangrene or Roj Story Exam Useful Facts

गैंग्रीन या रोज कहानी के परीक्षा उपयोगी तथ्य | Gangrene or Rose Story Exam Useful Facts गैंग्रीन या रोज प्रमुख तथ्य (Gangrene or Roj Key Facts) इसक कहानी के लेखक सच्चिदानंद हीरानन्द वात्स्यायन अज्ञेय जी हैं। इसका प्रकाशन – रोज़ शीर्षक से अज्ञेय के कहानी संकलन विपथगा 1937 के पहले संस्करण में हुआ है। विपथगा … Read more